संकल्प पत्र

Sankalp Patra

संकल्प पत्र, संकल्पित भारत ,सशक्त भारत



130 करोड़ देशवासियो के सपनो का नया भारत :-

भाजपा एक बार फिर आपके पास आई हे ताकि आपका आश्रीवाद लेकर भारत की इस विकास यात्रा को अबादित , बिना थके, बिना रुके, एक नए उत्शाह और उमग के सात जारी रख सके।

पांच साल पहले, 26 मई 2014 को ऐतिहासिक जनादेश मिलने के बाद भारत के सर्वागीण विकास के इस संकल्प के साथ यह यात्रा सुरु की थी।

उस समय , भारत के समछ कई बड़ी चुनौतियां थी – हमारी अर्थब्यवास्ता बेहद खराब स्थिति में थी तथा चारो और निराशा का वातावरण था। भ्रस्टाचार विकराल रूप ले चूका था | अपने नागरिकों के सपनो और आकांक्षाओं को पूरा कर पाने मे, भारत की क्षमता पर संदेह व्यक्त किया जा था |

लेकिन, अगर चुनौतिया बड़ी थी, तो एक सशक्त, सुरक्षित और समृद्ध राष्ट्र बनाने का हमारा संकल्प भी मजबूत था। 130 करोड़ भारतीयों की शक्ति और उनके कोसल के बलबूते, अभूतपूर्व रूप से जन भागीदार के साथ हमने अवरोधों को अवसरों में. अवनति को विकास की गति में और निराशा को आछा में बदला।

जो चीज कभी नामुमकिन लगती थी. उसको हमने तेज गति के साथ धरातल पर उतरा। पिछले पांच वर्षो में प्रतेक भारतीय परिवार को जन – धन योजना के कारण बैंक खाता मिला, 50 करोड़ भारतीयों को आयुष्मान भारत की बदौलत बीमारी से लड़ने का हौसला मिला और असंगठित छेत्र के 40 करोड़ से अधिक लोग अब पेंसन का लाभ ले सकते हे।

स्वछ भारत अभियान ने जन आंदोलन का रूप ले लिया और पांच सालो में स्वछता का दायरा 38 % से बढ़कर आज 99% के करीब पहुंच गया हे। मुद्रा योजना के कारण अब छोटे सहरो के युवाओ के लिए उधमी बनाना सम्भव हुआ हे। 5 लाख रूपये तक की आय नव – मध्यम और मध्यम वर्ग के लोगो को अब आयकर से छूट मिल गयी हे।

हमारी सरकार ने भविष्य कि सोच के साथ . तेजी से इंफ्रास्टकवर की कमी को दूर किया हे। सड़को और रेलवे लाइनों के निर्माण की गति दोगुनी हो गए हे। भारत के पास अब और भी अधिक अच्छे और आदुनिक बंदरगाह हे। 2014 तक अँधेरे में रहने वाले 18,000 गांव अब ग्रामीण विधुतीकरण के प्रयासो से प्रकाशमान हो गए हे। सौभाग्य योजना के माध्यम से 2.6 करोड़ से घरो को रोशन किया गया है। पिछले पांच वर्षो में बने 1.5 करोड़ घरो ने लाखो लोगो को बड़े सपने देखने की आजादी दी है। पिछले पांच साल का हमारी कार्यकाल साक्छी हे कि कैसे देस की विकाश यात्रा एक जन आंदोलन का रूप ले सकती है।

हमारा राष्ट्र अब निर्दयी आतंकी ताकतों के सामने लाचार नही है। देश की शांति और एकता के माहौल को नुकसान पहुंचाने वाली हर विनासकारी विचारधारा को करारा जवाब दिया गया है। उनके पहली बार सूद समेत उन्ही के भाषा में कड़ा जवाब मिला है।

पूर्वोतर भारत जो अब तक अलग थलग रहता था , में आज अभूतपूर्ण विकाश हो रहा है। पूर्वोतर आज देस की मुख्यधारा से मजबूती के साथ जुड़ गया है।

केंद्र सरकार ने भरस्टाचार और काले धन के खिलाफ एक बड़ी और निर्णायक लड़ाई छेड़ दी है सत्ता के गलियारों में बिचोलियो की